आत्मविश्वास

बचपन में एक लघुकथा सुनी थी
आज सुबह-सुबह किसी ने वही कथा एसएम्एस के माध्यम से प्रेषित की....
सो, एक अच्छी सीख पुनः ताज़ा हो गयी....
"किसी गाँव में सूखा पड़ा। गाँव वालों ने तय किया कि सब मिलकर बारिश के लिए दुआ मांगेंगे। नियत तिथि पर सारा गाँव एक मैदान में एकत्रित हुआ। सब परमात्मा से वर्षा के लिए दुआ मांगने आये थे, लेकिन केवल एक लड़का ऐसा था जो छतरी साथ ले कर आया था.......।"

4 comments:

परमजीत बाली said...

बढिया!!

Mired Mirage said...

इसे कहते है विश्वास और आशावाद !
घुघूती बासूती

Fakeer Mohammad Ghosee said...

Koi Bat Nahi Ek to Tha Jise Uparwale par Poora Viswas tha.

Bahut Badhiya.

Pinchu said...

aapko bahut bahut shubkaamnaye aapmai bhi aatamvishvas aa gaya.